Thursday, February 28, 2013

राष्ट्र हित मे आप भी जुड़िये इस मुहिम से ...

राष्ट्र हित मे आप भी जुड़िये इस मुहिम से ...

http://jaagosonewalo.blogspot.in/2013/02/blog-post_27.html

At least 9 blogs are now carrying the Hindi version of the Netaji mystery inquiry petition. Can anyone translate the same petition in Bangla, Tamil, Gujarati or and any other language please?

जबकि आज हर भारतीय ने नेताजी के आसपास के विवाद के बारे में सुना है, बहुत कम लोग जानते हैं कि तीन सबसे मौजूदा सिद्धांतों के संभावित हल वास्तव में उत्तर प्रदेश में केंद्रित है| संक्षेप में, नेताजी के साथ जो भी हुआ उसे समझाने के लिए हमारे सामने आज केवल तीन विकल्प हैं: या तो ताइवान में उनकी मृत्यु हो गई, या रूस या फिर फैजाबाद में |

1985 में जब एक रहस्यमय, अनदेखे संत “भगवनजी” के निधन की सूचना मिली, तब उनकी पहचान के बारे में विवाद फैजाबाद में उभर आया था, और जल्द ही पूरे देश भर की सुर्खियों में प्रमुख्यता से बन गया| यह कहा गया कि यह संत वास्तव में सुभाष चंद्र बोस थे। बाद में, जब स्थानीय पत्रकारिता ने जांच कर इस कोण को सही ठहराया, तब नेताजी की भतीजी ललिता बोस ने एक उचित जांच के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

http://tamasha-e-zindagi.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://www.hansteraho.com/2013/02/blog-post_27.html
http://jindagikeerahen.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://archanachaoji.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://kalptaru.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://padmsingh.blogspot.com/2013/02/blog-post_27.html
http://shroudedemotions.blogspot.in/2013/02/blog-post.html
http://rbh-devkjha.blogspot.com/2013/02/blog-post.html
http://www.arunsblog.in/2013/02/blog-post_28.html

Sunday, February 24, 2013

ग़ज़ल : जिद में



1.  बह्र : मुतकारिब मुसम्मन सालिम
 
दिलों की कहानी बनाने की जिद में,
लुटा दिल मेरा प्यार पाने की जिद में,

बिना जिसके जीना मुनासिब नहीं था,
उसे खो दिया आजमाने की जिद में,

मिली कब ख़ुशी दुश्मनी में किसी को,
ख़तम हो गया सब निभाने की जिद में,

घुटन बेबसी लौट घर फिर से आई,
रहा कुछ नहीं सब बचाने की जिद में,  

तमाशा बना जिंदगी का हमेशा, 
शराफत से सर ये झुकाने की जिद में....

Thursday, February 21, 2013

ग़ज़ल : समन्दर

सभी को लगे खूब प्यारा समन्दर,
सुहाना ये नमकीन खारा समन्दर,

नसीबा के चलते गई डूब कश्ती,
मगर दोष पाये बेचारा समन्दर,

दिनों रात लहरों से करता लड़ाई,
थका ना रुका ना ही हारा समन्दर,

कई राज गहरे छुपाकर रखे है,
नहीं खोलता है पिटारा समन्दर,

सुबह शाम चाहे कड़ी दोपहर हो,
हजारों का इक बस सहारा समन्दर.


Sunday, February 17, 2013

बसंत - गीत

जब ऋतुराज विहँस आता है,तन-मन निखर-निखर जाता है
पुलकित  होकर  मन  गाता  है ,  प्यारा यह  मौसम भाता है 

अमराई  बौराई  फिर से , हरियाली  लहराई फिर से,
कोयल फिर उपवन में बोले, मीठी-मीठी मिश्री घोले,
हृदय लुटाता प्रणय जताता, भ्रमर कली पर मंडराता है.     
पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

बाली गेहूँ की लहराई, झूमी मदमाती पुरवाई,
पागल है भौंरा फूलों में, झूले मेरा मन झूलों में,
मस्ती में सरसों का सुन्दर,  पीला आँचल लहराता है.
पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम भाता है. 


पेड़ों में नवपल्लव साजे, ढोल मँजीरा घर-घर बाजे,
महकी फूलों की फुलवारी, सजी धरा दुल्हन सी प्यारी,
धीमी-मध्यम तेजी गति से, बादल नभ में मँडराता है.
पुलकित होकर मन गाता है, प्यारा यह मौसम  भाता है.

Wednesday, February 13, 2013

लुटा है चमन मुस्कुराने की जिद में


बह्र : मुतकारिब मुसम्मन सालिम 

महक कर सभी को लुभाने कि जिद में,
लुटा है चमन मुस्कुराने कि जिद में,
 
कहीं खो गई रौशनी कुछ समय की,
निगाहें रवी से मिलाने कि जिद में,
 
करूँ क्या करूँ याद वो फिर न आये,
सुबह हो गई भूल जाने कि जिद में,
 
गलतकाम करने लगा है जमाना,
बड़ा सबसे खुद को बनाने कि जिद में,
 
अँधेरा हुआ दिन-ब-दिन और गहरा,
उजाला जहाँ से मिटाने कि जिद में,

Thursday, February 7, 2013

समंदर बचाना

नया इक फ़साना,
बुने दिल दिवाना,

दुखों से लबालब,
भरा है जमाना,

न कर दोस्ती दिल,
न दुश्मन बनाना,

कहाँ हो सुनो भी,
जरा पास आना,

कहो ठोकरों से,
कि चलना सिखाना,

बही हैं निगाहें,
समंदर बचाना,

नहीं प्रेम रस तो,
जहर ही पिलाना...

Monday, February 4, 2013

दुष्कर्म पापियों का भगवान हो रहा है

.................ग़ज़ल.................

(बह्र: बहरे मुजारे मुसमन अखरब)
(वज्न: २२१, २१२२, २२१, २१२२)


दुष्कर्म पापियों का भगवान हो रहा है,
जिन्दा हमारे भीतर शैतान हो रहा है,

जुल्मो सितम तबाही फैली कदम-२ पे,
अपराध आज इतना आसान हो रहा है,

इन्साफ की डगर में उभरे तमाम कांटे,
मासूम मुश्किलों में कुर्बान हो रहा है,

कुदरत दिखा करिश्मा संसार को बचा ले,
जलके तेरा जमाना शमशान हो रहा है,

खामोश देख रब को रोया उदास भी हूँ,
पिघला नहीं खुदा दिल हैरान हो रहा है...

Friday, February 1, 2013

बुना कैसे जाये फ़साना न आया

(बह्र: मुतकारिब मुसम्मन सालिम)
(वज्न: १२२, १२२, १२२, १२२) 

बुना कैसे जाये फ़साना न आया,  
दिलों का ये रिश्ता निभाना न आया,

लुटाते रहे दौलतें दूसरों पर,
पिता माँ का खर्चा उठाना न आया,

चला कारवां चार कंधों पे सजकर,  
हुनर था बहुत पर जिलाना न आया,

दिलासा सभी को सभी बाँटते हैं,  
खुदी को कभी पर दिलाना न आया,

जहर से भरा तीर नैनों से मारा,  
जरा सा भी खुद को बचाना न आया,

किताबें न कुछ बांचने से मिलेगा,
बिना ज्ञान दर्पण दिखाना न आया,

बुढ़ापे ने दी जबसे दस्तक उमर पे,  
रुके ये कदम फिर चलाना न आया,

मुहब्बत का मैंने दिया बेसुधी में,  
बुझा तो दिया पर जलाना न आया,

समंदर के भीतर कभी कश्तियों को,
बिना डुबकियों के नहाना न आया.