Monday, July 30, 2012

खाल ओढ़े मानवों का आ गया शैतान है

अजनबी पर ना भरोसा कर अभी सुनसान है।
लूट कर सब चल बसेगा साथ जो सामान है।।

पूंछता बेटा नहीं अब हाल अपने बाप का।
यह हमारे वक़्त की सबसे सही पहचान है।।

शोर गलियों में मचा है, वो बनी दुल्हन मिरी।
प्यार मेरा आज देखो चढ़ रहा परवान है।।

इश्क से ये दिल हमेशा यार क्यूँ डरता रहा।
इश्क तुमको पा लगा मुझको बड़ा आसान है।।

ताड़ते इज्ज़त घरों की फिर दुशाशन रूप में।  
खाल ओढ़े मानवों का आ गया शैतान है।।

Sunday, July 29, 2012

आज भी अनजान है

छीन बैठा इश्क जिसका सांस दिल से जान है,
मौत से मेरी वही बस आज भी अनजान है।

जिंदगी भर भागता था मौत के अंजाम से,
पर रहा क़दमों तले हर रोज़ ही शमशान है।

मान हो सम्मान, आदर भाव की हो भावना,
"यह हमारे वक़्त की सबसे सही पहचान है"

छोड़ बेशक से गयी माँ तू मुझे संसार में,
आज भी माँ याद तेरा रूप ही भगवान है।

ताकती मेरी निगाहें राह जिस इंसान की,
लौट कर आया नहीं वो आ गया तूफ़ान है।

Friday, July 27, 2012

201 पोस्ट कुछ और शे'र

प्यार से मुझको, अनमोल नगीना दे दो,
जिंदगी को बस , इक और महीना दे दो,

हम जितना उनको देख मुस्कुराते चले गए,
वो उतना ही दिल कसम से दुखाते चले गए,

हुस्न की फिर से, कुछ अदाएं ढूंढ़ लाया हूँ,
आज अपनी खातिर, सजाएं ढूंढ़ लाया हूँ.....

दे धोखा फिरसे, तू फिर दिल्लगी कर ले,
अपनी वश में, तू मेरी हर ख़ुशी कर ले.....

मुझको नशा हुआ जैसे शराब का,
जो गम पढ़ लिया तेरी किताब का......

शायद मैं नहीं रहा

दोस्त ....दोस्त वो नहीं रहा,
दिल के मारे, दिल नहीं रहा,


बहता पानी, आँख में नमी,
सागर छूटा, अब नहीं रहा,
 

धड़कन धीमी, और हो गयी,
काबू खुद पर, जो नहीं रहा,
 

अब बस तेरा, इंतज़ार है,
इतनी जल्दी, सो नहीं रहा,
 

रुकी सांसे बस, अभी -अभी,
शायद सच में, मैं नहीं रहा..........

Wednesday, July 25, 2012

कुछ शेर

मुझको भी जिंदगी की, जरुरत बना गई,
वो नज़रों से छु मुझे, खूबसूरत बना गई //

आँखों से तोड़ गयी, ख्वाबों की पंखुड़ियों को,
कांटो ने छोड़ दिया, जख्मी कर उंगलियों को //

देख तुझको निगाहों, में भर आया पानी,
देन है ये हसीनो की, है मेहरबानी //

लगा था मेला, मैं नीलाम हो गया,
कि दिल का सौदा, मेरा काम हो गया //

क्या कहूँ उसको समझ नहीं आता,
दिल में रहता है, घर नहीं आता //

ज़रा सी बात कह दी तो मलाल कर गई,
बुरा वो मान बत्तर, और हाल कर गई //

आदमी

आदमी को कर रहा है, तंग आदमी,



सभ्यता सीखा गया बे-ढंग आदमी,



कोशिशें कर-2 हुआ है, कामयाब अब,



आसमां में भर रहा है, रंग आदमी,



देख के लो हो गयीं, हैरान अंखियाँ,



ओढ़ बैठा है, बुरा फिर अंग आदमी,



सोंच के ना काम कोई आज तक किया,



जी रहा इन्हीं आदतों के, संग आदमी,



दूसरों के दुःख को हरदिन, बढाता था,



हाल अपना जान अब है, दंग आदमी............

Monday, July 23, 2012

इक तरफ - इक तरफ

इक तरफ सुन्दर, जग-जमाना,
इक तरफ लुटता, मैं खज़ाना,
इक तरफ प्याला, है मदहोश,
इक तरफ लब, मेरे खामोश,
इक तरफ बिजली, हैं बादल,
इक तरफ आशिक, मैं पागल,
इक तरफ सागर, है गहरा,
इक तरफ खाली, मैं ठहरा,
इक तरफ खुशियों, के मौसम,
इक तरफ गम में, मैं हरदम,
इक तरफ मस्ती, में सावन,
इक तरफ सूना, मैं आँगन,
इक तरफ क़दमों, में मंजिल,
इक तरफ टूटा हूँ, मैं दिल,
इक तरफ हंसती, है बस्ती,
इक तरफ प्यासी, मैं धरती,
इक तरफ जलती, है आग,
इक तरफ साबुन, मैं झाग,
इक तरफ महफ़िल सुर ताल,
इक तरफ गुजरा, मैं साल,
इक तरफ दुश्मन दिल दीवाना,
इक तरफ जंगल, मैं वीराना...............

Sunday, July 22, 2012

हम कंटीले थे

वो कोमल थे, हम कंटीले थे,


आँखें सूखीं थी, हम गीले थे,


रास्ते फूलों के, पथरीले थे,


जख्मी पग, कांटें जहरीले थे,


ढहे पेंड़ों से, पत्ते ढीले थे,


बिखरे हम, कर उसके पीले थे,


नाजुक लब, नयना शर्मीले थे,


घर में बदबू थी, हम सीले थे,


हम फीके भी ,हम चमकीले थे..........

Friday, July 20, 2012

पानी था या हवा था

पानी था, या हवा था,
वो किस दिल, की दुआ था,


ठंडा मौसम, कड़ी लू
वो गम था, या दवा था,
 

लगता था, वो खुदा पर,
किस्मत था, या जुआ था,
 

बेवजह तबियत, जुदा थी,
शायद हमे, कुछ हुआ था,
 

बहता आंसू, मेरा ही,
घायल नस को, छुआ था.

उम्मीदों का कोना

लहू से लथपथ,  उम्मीदों का कोना है,
कि मैं घडी भर हूँ जागा, उम्र भर सोना है,

मिला लुटा हर लम्हा, जीवन का तिनका सा,
लबों पे रख कर लफ़्ज़ों को, जी भर रोना है,

छुड़ा के दामन अब वो दोस्त, अपना बदला,
मिला के आँखों का गम, सारा आलम धोना है,

जिगर में रखता हूँ, जलता -बुझता शोला फिर भी,
तेरी ख़ुशी की खातिर, दुःख अपना संजोना है,

कभी-कभी जब तबियत, दिल की बिगड़ी मेरे यारों,
निकाल साँसों को अपना दम खुद ही खोना है..........

Thursday, July 19, 2012

दिल तुझसे ज़रा खफा है

नाराज हूँ मैं, दिल तुझसे ज़रा खफा है,
मासूम भोली, सूरत ने दिया दगा है

खंज़र ये आँखों का, दिल में उतार डाला  
हमेशा के लिए मुस्किल, जख्म मुझे मिला है,

डर डर के जिंदगी को, जीने से मौत बेहतर,
कैसा ये दर्द दिलबर, सीने में भर दिया है,

मुझे रात भर रुला, ताकि ये आँख नम हो,
दुश्मन से दोस्त बन, संवर रही हवा है

धड़कन के रास्ते, साँसों में समां गयी जो
वो हुस्न का जादू, बातों में सदा रहा है..........

Saturday, July 14, 2012

ये दिल दिल्लगी के, बिलकुल खिलाफ है

शीशे की तरह दिल में, इक बात साफ़ है,
ये दिल दिल्लगी के, बिलकुल खिलाफ है,
खता इतनी थी कि उसने, मज़बूरी नहीं बताई,
फिर भी उसकी गलती, तहे-दिल से माफ़ है,
लगने लगी है सर्दी, अश्कों में भीगने से,
इतना हल्का हो गया, तन का लिहाफ है,
हर आस मर चुकी है, बस सांस ऑन है,
और दिल भी जल-२ के, बुझ हुआ ऑफ है,
मौत है कि बक्श देती है, मुझको बार-बार,
तेरे बाद जिंदगी में, अब जीने का खौफ है.....

Friday, July 13, 2012

तेरी याद आती है माँ

दिल खोलकर सखियों में मेरा ज़िक्र करती थी,
ज़रा सी देर क्या हो जाए बहुत फिक्र करती थी.........

तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......
अश्क आँखों में जब आता है, दर्द जब मुझको सताता है,
जब उदास हो जाता है मन, जब बढ़ जाती है उलझन,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

जब सुबह कोई समय पर उठाता नहीं, चाय से भरा प्याला दिखाता नहीं,
जब सर पे कोई हाँथ रख कहता नहीं, बेटा देर हो जाएगी उठ जा,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

जब आवाज नहीं आती कानो में, कि ज़रा ध्यान से गाडी चलाना,
दफ्तर पहुँच कर मुझे तुम बताना, समय पर बेटा खाना है, खाना,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

लौटकर शाम को जब घर आता हूँ, खाली कुर्सी पर जब तू दिखती नहीं,
आज का दिन कैसा गुजरा, जब न पूंछे कोई.
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

देर हो या सबेर कोई रोकता नहीं, ग्लास भर पानी को टोकता नहीं,
सर में दर्द जब-जब चढ़ जाता है, हद से ज्यादा जो ये बढ़ जाता है,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

दोस्तों के घर मैं जब जाता हूँ, अपनी माँ से मुझे जब वो मिलवाते हैं,
जब - जब पूंछे है वो घर में कैसे है सब.
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

बे-रौनक पापा का जब-जब चेहरा दिखा, दर्द उनके भी चेहरे पर था लिखा,
बात दिल कि जब पापा छुपाते हैं माँ, समय कैसे तेरे बिन बिताते हैं माँ,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

नज़रें जब दिवार पर चढ़कर आपकी मुस्कुराती तस्वीर देखती हैं,
आसमान में जब सारे तारे जगमगा के आपस में बातें करते हैं,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

चाँद कि किरणे जब खिड़की पर दस्तक देती हैं,
और चंदा मामा कि कहानी याद आती है,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

आसमां जब धरती कि याद में आंशू बहाता है,
समंदर जब किनारों को डुबो जाता है,
सबेरा जब सूरज कि बिंदिया सजाता है,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

घर में बस्ती ये ख़ामोशी, और जब-२ घर आये मौसी,
तेरी याद आती है माँ, हाँ सच है माँ, बहुत याद आती है माँ......

मेरे जीवन कि अनमोल सबसे चीज़ ले गया,
मेरी माँ को मुझसे छीन डायबिटीज़ ले गया....

Thursday, July 12, 2012

तेरा नाम भूल जाऊं

बस दो घूंट पियूँ , और सारा जाम भूल जाऊं
कि तुझे याद करूँ, और तेरा नाम भूल जाऊं,
जीवन के सफ़र में कहीं, तू मिले जो दुबारा,
तेरा हाल पूंछू , और क्या था काम भूल जाऊं,
मिलने को तुझसे, जब भी सजाऊं कोई रात,
मारे ख़ुशी के मैं तो वही, शाम भूल जाऊं, 
वैसे तो दिल की याद है, हर बात मुंहजबानी,
पर लिखते वक़्त क्या था, पैगाम भूल जाऊं,
आज चाहता हूँ कह दूँ, पर जान का है खतरा,
मैं क्या करूँ की बाद का, अंजाम भूल जाऊं.......

पलटके हंस गई जबसे

पलटके हंस गई जबसे,नज़र में बस गई तबसे,
समंदर से निकलती लहरें,किनारा रस गई जैसे,
दिल से खेल खेला है, लगा उल्फत का मेला है,
याद जब तेरी आई तो सांसे फंस गई फिरसे,
बड़े शातिर खिलाडी हैं, हम समझे अनाड़ी हैं,
देखकर मुझको राहों में नज़रें फेर गई मुझस.....

Wednesday, July 11, 2012

दिल लगाने को तुला है

नापाक इरादे से दिल लगाने को तुला है,
इक शक्स मेरी हस्ती मिटाने को तुला है,
हजारों किये हैं जुर्म मगर सजा कोई नहीं,
मुझको भी गुनाहों में फ़साने को तुला है,
सौदागर है, दिलों का व्यापार करता है,
धंधा है यही वो जिसको, बढ़ाने को तुला है,
धमकी दे रहा है, सीने पर मेरे चढ़कर,
जालिम है जबरजस्ती, डराने को तुला है,
आता है नए - नए रोज़, दावं सीख कर,
मेरे जीवन को जुए में, हराने को तुला है....

रात उधार मांगता हूँ

बस नींद भरी रात उधार मांगता हूँ,
दिल के लिए जज़्बात उधार मानता हूँ,
कोई तोड़ जाये जो होंठो से मेरे चुप्पी,
कुछ लफ़्ज़ों की सौगात उधार मानता हूँ,
मुमकिन नहीं है फिर तसल्ली के वास्ते,
गूंगे लबों पे इक बात उधार मांगता हूँ,
सांसो की चाल थोड़ी धीमी पड़ गयी है,
कुछ दिन जीने के हालात उधार मांगता हूँ,
फुटपाथ पर बसे कुछ भूंखे पेटों को,
थोड़ी दाल थोड़े भात उधार मांगता हूँ...........

ज़रा सी बात

ज़रा सी बात बोलो तो बताना हैं बना लेते,
उठा - गिरा कर पलकें फ़साना हैं बना लेते,
कहानी रच लेते हैं, जुबां से लम्बी चौड़ी वो,
पत्थरों को ज़रा छूकर, खज़ाना हैं बना लेते,
निगाहें रूठ जाएँ तो, बस्तियां लुट जाती हैं,
अपने आगे पीछे इक, जमाना हैं बना लेते,
यादों के बीते पल जब - जब जाग जाते हैं,
मेरी सारी खुशियों का हर्जाना हैं बना लेते.....

समस्याओं का समाधान चाहिए

बढ़ती हुई समस्याओं का, समाधान चाहिए,
इंसान के अवतार में, फिर भगवान चाहिए,
मुश्किलों से घिरी हुई है,अपनी जन्म-भूमि,
अब एक जुझारू योद्धा,बड़ा बलवान चाहिए, 
बैठे हैं भ्रष्ठाचारी, हर मोड़ हर कदम पर,
अब इनकी खातिर,एक नया शमशान चाहिए,
नज़रों में झलकती खोट, घरों में रखे भर-२ नोट,
आँधियों से बात नहीं बननी,आज तूफ़ान चाहिए.....

मैं तेरे बिन निकल आया

छोड़ कर उल्फत की गलियां, मैं तेरे बिन निकल आया,
जलाया जब रातों में मुझको, इक नया दिन निकल आया,
दिल में दफनाई थी यादें, आज जो फुर्सत में खोदीं,
बे-दर्द जिन्दा जख्मों का, वही पल-छिन निकल आया,
सोंचकर रात भर जागे, सबेरा कल नया होगा,
मगर बीता वही समय उठ के , प्रतिदिन निकल आया,
गुमसुदगी की राहों पर, भटकता छोड़ गया मुझको , 
वही मंजर था जो मेरे दोस्तों, बड़ा कठिन निकल आया,
किताबें खोल कर हैं बैठी, यादों से लहुलुहान वही पन्ने,
पढ़ते - पढ़ते तेरा दिया हुआ, मुझमे चिह्न निकल आया....

Monday, July 9, 2012

मुस्कुराना भूल आये हैं

ख़ुशी से हंसते-हंसते लब, मुस्कुराना भूल आये हैं,
आज हम अपने ही घर का, ठिकाना भूल आये हैं,
यादों के सब लम्हे , यादों से मिटाकर हम,
उसके साथ वो गुजरा, जमाना भूल आये हैं,
बुझाकर रख गई जब वो, सुहाने साथ बीते पल,
सुलगता यादों का वो पल छिन, जलाना भूल आये हैं,
लगी जब चोट हकीकत की, जग गई नींद से आँखें,
बंद आँखों पर ख्वाबों को, सजाना भूल आये हैं,
उसे खुशहाल रखना, इस दिवाने दिल की आदत थी,
अब उसकी खातिर अपने अश्क, बहाना भूल आये हैं....

Sunday, July 8, 2012

नैनों के अनोखे रूप

मन को आहत कर गए नैनो से निकले बाण,
नैना अद्भुत लीला रच , ह्रदय से हरते प्राण.....

प्रभु के दर्शन हो गए, जब नैनो के खुल गए द्वार,
नैनों की नदियाँ बह रहीं, बिन मांझी मजधार.....
मुख से बोला न गया बोल गए सब नैन,
मीठी भाषा बोल कर छीन गए हैं चैन,

छोटे -२ शब्दों को ध्यान से ढूंढते नैना,
दो शीशों के नीचे से हैं कैसे घूरते नैना,
हुए जब बूढ़े तन तो बने पथरीले हैं नैना,
सूखी - २ पलकों के, नीचे गीले हैं नैना,
गरीबी के साये में दिखते भूखे हैं नैना,
घिर के आया है सावन, फिर भी सूखे हैं नैना,
दया में भीगे हैं नैंना, हया भी सीखे हैं नैना,
सुन्दर मखमली सूरत पे दो अनोखे हैं नैना............
झुर्रियां पड़े चेहरों पे हो गयी धुंधली हैं अँखियाँ,
तकलीफें सह-२ के बन बैठी बदली हैं अँखियाँ,


थोडा गौर से देखो , निगाहों में समंदर है,
प्रेम का रास्ता जाता सदा गम के अंदर है,
जुबां पर लौट आये हैं, सारे शब्द दर्द के,
दिलों से खेलने वाला, वो शातिर सिकंदर है,
मरता क्या नहीं करता, दिलपे जोर नहीं चलता,
बड़ी मासूम हर अदा, वो फूलों से सुंदर है.....


Saturday, July 7, 2012

नयन

दो नैनो से बोल गई अपने मन की बात,
खुद नैना बंद सो रही, मैं जागूं दिन-रात,
आग लगा कर सुलग रहे, हैं मेरे जज़्बात,
सूखे - सूखे नैनों से, बहे प्रेम बरसात......

समझे प्राणी न कभी नैनो की हर बात,
नैनो के मीठे बोल तो है नैनो में बरसात,
नैनो में उजियाला है नैनो में बसी है रात........

नैना भोले भाले हैं, नैना हैं बदमाश,
नैनो में बसी शरारत, नैनो में विश्वास,
नैनो के कारण लगे सभी दिलो में आग,
नैनो में दूरी न रही, जाओ कितना भाग....



नयन में नीर रखे हैं, नयन में तीर रखे हैं,
नयनों में न जाने कितने गहरे क्षीर रखे हैं,
सूरमा हों बड़े कितने नयन से हार जाते हैं,
निहत्थे हैं मगर कितने यूँ ही मार जाते हैं,
नयनों में छुपी चुप्पी नयन ताड़ जाते हैं,
मरुअस्थल कभी तो बन आषाढ़ जाते हैं,
नयन रोकते भी हैं, नयन टोकते भी हैं,
कभी गहरी खाई में लाकर झोंकते भी हैं,
नैनों के अनेखों रूप, पल में छाया पल में धूप
नैनों में कई मौसम, बराबर रखते खुशियाँ-गम.....

नयन दुनिया दिखाते हैं, नयन दुनिया छुपाते हैं,
नयन आंशू बहते हैं, नयन मुस्कान लाते हैं,
नयन इंसान जगाते हैं, नयन सुख-दुःख दिखाते हैं,
नयन गलती बताते हैं, नयन परख सिखाते हैं.......


कभी तीखे ये औज़ार, कभी छींटे और बौछार,
कभी जो मीठे बोलें बोल, रस जीवन में देते घोल,
कभी तेवर हैं रंग-रंगीले, कभी दिखते हैं भड़कीले,

कभी करते हैं मनमानी, कभी बरसाते जमकर पानी,
कभी झुक करके करें हया, कभी उठ करके करें दया,
कभी तोड़ जाते हैं ये दिल, कभी हर जाते हैं मुस्किल,
कभी दिल से गए उतर, कभी दिल में कर गए घर,
कभी लिख जाएँ कई कहानी, कभी दे जाएँ कई निशानी,
कभी हो जाएँ जब मजबूर, ले जाते हैं मीलों दूर,
कभी सपने सजाते हैं, कभी हरदम जगाते हैं,
कभी खुद रूठ जाते हैं, कभी खुद को मनाते हैं,
कभी लाचार हो देखें, कभी तलवार ये फेंकें,
कभी मुस्किल बने भाषा, कभी आसान सी आशा,
कभी सच झूंठ की दे पहचान, कभी बन जाती हैं अनजान,
कभी रिश्तें करें शुरुआत, कभी इक भी न बोलें बात...


नियत की पहचान नयन करें, किसी पे कुर्बान नयन करें,
छुपाकर धोका तले पलकों के, दिलों को हैरान नयन करें,
गिरा कर धूल कर दे, उठा कर अमूल कर दे,
चाव से अपनी पसंद कर बड़ा सम्मान नयन करें....


नयन ही नीर रखते हैं, ह्रदय की पीर रखते हैं,
नयन उत्सुक भी होते हैं, नयन ही धीर रखते हैं, 
नयन इकरार करते हैं, नयन इनकार करते हैं,
नयन दुत्कार करते हैं, नयन ही प्यार करते हैं.......

Friday, July 6, 2012

ख्वाब आँखों के

ख्वाब आँखों के कोई भी मुकम्मल हो नहीं पाए,
खाकर ठोकर यूँ गिरे फिर उठकर चल नहीं पाए,
खिलाफत कर नहीं पाए बंधे रिश्ते कुछ ऐसे थे,
सवालों के किसी मुद्दे का कोई हल नहीं पाए,
बड़े उलटे सीधे थे, गढ़े रिवाज तेरे शहर के,
लाख कोशिशों के बावजूद हम उनमे ढल नहीं पाए,
थरथराते होंठो ने जब, शिकायत दिल से की,
बहते अश्कों को हांथो से हम फिर मल नहीं  पाए,
लगी जब आग सीने में, तेरी यादों की वजह से,
हम जल गए,  किस्से जल नहीं पाए......

दोहे

बांधो मन की राह में एक प्रेम की डोर,
मीठा सागर रस का भर जाए हर ओर,
कहती है मेरी लेखनी मचाते हुए शोर,
दिल के नाते दिल मिलें दिल पे किसका जोर,

सुन्दर-सुन्दर शब्दों में सुन्दर-सुन्दर बोल,
तीखे - कडवे लफ्जों को मुख से तो न तोल,
कच्चा धागा प्रेम का है बड़ा अनमोल,
सीरत के सामने, कुछ सूरत का न मोल......


 

रात के तेवर

रात के तेवर जब - जब बदले नज़र आये,
तेरी यादों के मौसम बड़े उबले नज़र आये,
तसल्ली दे रहे हैं, हालात मुझे लेकिन,
आँखों से सारे मंजर दुबले नज़र आये,
भभकते अश्कों को कोई साथ न मिला,
न रुके और न कभी संभले नज़र आये,
फंस गए इस तरह बदनसीबी की जाल में,
मजबूरियों से हम न निकले नज़र आये....

गिरके बिखरके

मैं तो गिरके बिखरके आज टूट लिया रे,
तेरी नैनो की भाषा हमे ने लूट लिया रे,
नाम मेरा छपा इश्क के पन्नों पर है,
खुद को भरके मोहोब्बत में कूंट लिया रे,
जबसे तेरी निगाहों ने मुझको छुआ,
तबसे तन्हाई की बाहों से छूट लिए रे,
आगे जो भी हो इल्ज़ाम जिंदगी का,
आज जीने के लिए तेरा घूंट लिए रे.......

सागर हुआ है प्यासा

हो गयी चाँद को हैरानी, सागर हुआ है प्यासा,
निगाहों ने मेरी खातिर ऐसा चेहरा है तलाशा,
उजड़े हुए चमन में फिर से फूल खिल गया हो,
मेरे रब ने, जैसे खुद किसी, हीरे को हो तरासा,
यारों दिन में भी हो जाए अंधेरों का  इजाफा,
उसकी सूरत जो न दिखे तो बढ जाती है निराशा,
ये पहाड़ सी जिंदगानी चुटकी में गुजर जाए,
तेरा साथ जो मिले, मुझको राहों में जरा सा,
तू ही दिल की आरजू, तू ही प्यार की परिभाषा,
तूफां में बुझ रहे चरागों की तू है आशा.......

दिलों से निवेदन

मोहोब्बतों से विनती दिलों से निवेदन,
नहीं दिल्लगी में मिले, कोई साधन,
नाजुक बहुत हैं ये रिश्तों के धागे,
नहीं फिर जुड़ेगा, जो टूटा ये बंधन,
संभालेंगे कैसे लडखडाये कदम जब,
फ़िसलेंगे हांथो से अपनों के दामन,
पनप नहीं पाते ज़ज्बात फिर दिलो में,
सूना हो गया जो निगाहों का आँगन,
आँखों का बाँध छूटा तो कैसे बंधेगा,
अश्को से हो जायेगी इतनी अनबन....

Thursday, July 5, 2012

बिखरे हुए पन्ने

बिखरे हुए पन्ने किताबों के आगे,
जिंदगी रुक गयी हिसाबों के आगे,
सवालों के पीछे सवालों के तांते,
उलझी जवानी जवाबों के आगे,
जीने में जिद्दोजेहद हो गयी है,
सुधरे हुए हारे खराबों के आगे,
कोई चोट देकर कोई चोट खाकर,
सब लेटे पड़े हैं शराबों के आगे,
आँखों में सजाये जिसे बैठे सभी हैं,
मंजिल नहीं है उन ख्वाबों के आगे.......

तेरी भीगी निगाहों ने

तेरी भीगी निगाहों ने जब-जब छुआ है मुझे,
तेरा एहसास मिला तो कुछ-कुछ हुआ है मुझे,
फिसल कर छूट गया तेरा हाँथ मेरे हांथो से,
सितम गर ज़माने से मिली बददुआ है मुझे, 
लगी है ठोकर संभालना बहुत मुस्किल है,
घूंट चाहत का लग रहा अब कडुआ है मुझे,
तरसती- बेबाक नज़रें ताकती हैं रास्तों को,
दिखा तेरी सूरत के बदले सिर्फ धुँआ है मुझे....

Wednesday, July 4, 2012

दिवाने निकल पड़े

आँखों से मौत के निशाने निकल पड़े,
दिल पे चोट खाए दिवाने निकल पड़े,
बसती है तेरी चाहत सनम मेरी रूह में,
सूखे लबों की प्यास बुझाने निकल पड़े,
चाहतों के मामले फसानों में कैद है,
इल्जामों का पिटारा दिखाने निकल पड़े,
यादों का तेरे मौसम जब - जब आया है,
अश्को में बीते सारे ज़माने निकल पड़े,
होता है दर्द अक्सर तेरे बदले मिजाज़ से,
आज अपने साथ तुझको मिटाने निकल पड़े,
उल्फत की जिंदगी मैं जी-जी कर हारा हूँ,
समंदर में कश्तियाँ को बसाने निकल पड़े,
वो हंस-2 के मर गयी, मैं रो-२ के जी गया,
मेरे सीने में वफ़ा के जो खजाने निकल पड़े,
देखेंगे आज है कितनी ताकत तेरे सितम की,
हम गर्दन को तेरे आगे झुकाने निकल पड़े,
कहती है हूँ मैं दरिया, तुम डूब जाओगे,
फिर भी तेरे शहर में साँसे डुबाने निकल पड़े.......

Monday, July 2, 2012

दिल ने दुल्हन बना लिया

तुझे देखते ही दिल ने दुल्हन बना लिया,
तुझे चाहने को मैंने भी, मन बना लिया,
साजिश रच गयी तेरी नज़रें इस तरह कि,
खुदको लुटाकर एकदम निर्धन बना लिया,
अब ना छुपा सकेगी अपनी बुरी नियत को,
मैंने शीशे में ढाल खुद को दर्पन बना लिया,
नज़रों से जब नज़र टकराई तो नज़र लगी,
मुर्रझाये हुए फूलों से लदा चमन बना लिया,
तूने साथ जब छोड़ा, जख्मो की राह में फिर,
दर्द वो गम को ही अपना जीवन बना लिया......

समय की मजबूरियाँ

बह रहीं समय की धारा में, मजबूरियाँ थीं,
दो दिल एक थे मगर ज़ज्बातों में दूरियाँ थीं,
फ़साने बुनते रहे, नए - नए नज़रों के तले,
और जिगर पर चल रही, चाकू - छूरियाँ थीं,
हालात भी मौसम की तरह रुख बदलते थे,
माथे पर शिकन और चेहरे पर झुर्रियाँ थीं, 
कहीं मातम था, बहते अश्क थे गालों पर,
कहीं ख़ुशी के माहौल में तल रही पूरियाँ थीं.....

मैं बदल जाता हूँ

मैं, तेरे छूने से बदल जाता हूँ,
कतरा-२ तुझमे पिघल जाता हूँ,
बनकर एहसास मुझमे पलती है,
मैं तेरे दुवाओं से संभल जाता हूँ,
राहें आसान होती हैं पथरीली भी,
मैं जब भी तेरे पीछे निकल जाता हूँ,
थाम लेती हैं हाँथ आगे बढ़कर,
मैं जब मजबूरियों में फिसल जाता हूँ....

तेरा साया

तेरा साया, मेरे साए को ताकता है,
पीछे - पीछे मेरे अक्सर भागता है,
कभी छोड़ देता है तन्हा मुझे अकेले,
कभी दौड़ कर तेज रास्ता रोकता है,
पहले बरसाके कहर यादों का मुझपे,
फिर पलट, मुझे हंसकर देखता है.....

Sunday, July 1, 2012

तुझको मैंने जब-जब सोंचा

तुझको मैंने जब-जब सोंचा है बार-बार,
बहते हुए अश्कों को पोंछा है बार-बार,
यूँ तो बहुत कुछ मैं भूल चूका हूँ, पर,
यादों ने तेरी मुझको नोचा है बार-बार,
सारे घाव जिस्म पर अब सूख गए हैं,
दिल का जखम दिल ने खरोंचा है बार-बार,
देखने के लिए मुझको जिन्दा हूँ या नहीं,
मेरे तन को चाकुओं से कोंचा है बार-बार..........